कर्मचारियों को मनाने में हरक सिंह रावत हुए सफल, हड़ताल हुई वापस

ख़बर शेयर करें

अपनी 14 सूत्री मांगों को लेकर ऊर्जा निगम के संयुक्त संघर्ष मोर्चा के पदाधिकारियों ने रात 12:00 बजे से हड़ताल शुरू कर दिया था। जिसके पास प्रदेश में बिजली की व्यवस्था चरमरा गई थी। लिहाजा कर्मचारियों की मांगों के आगे राज्य सरकार को झुकना पड़ा और मामले को लेकर खुद ऊर्जा मंत्री डॉ हरक सिंह रावत ने कमान संभाली। ऊर्जा मंत्री हरक सिंह रावत और संयुक्त संघर्ष मोर्चा के पदाधिकारियों के बीच करीब एक घंटे की वार्ता सकारात्मक रही।

बैठक के बाद संयुक्त संघर्ष मोर्चा से जुड़े पदाधिकारियों ने हड़ताल को वापस ले लिया है। बैठक में निर्णय लिया गया कि अगले एक महीने के भीतर संयुक्त संघर्ष मोर्चा की मांगों को पूरा कर लिया जाएगा। बैठक के दौरान मोर्चा के सम्मुख ऊर्जा मंत्री हरक सिंह रावत ने इस बात को रखा कि हाल ही में उन्हें ऊर्जा विभाग की जिम्मेदारी मिली है, ऊर्जा निगम को एमडी और सचिव भी हाल ही में मिले है। लिहाजा विभाग को समझने का थोड़ा समय मिलना चाहिए।