स्वास्थ्य विभाग के गजब कारनामे, स्टाफ है नही और करोड़ों की खरीद रहे मशीनें

ख़बर शेयर करें

देहरादून, राज्य का स्वास्थ्य महकमा कब क्या कारनामे कर दे इसका अंदेशा खुद स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को भी नहीं होता।।हरिद्वार महाकुंभ के लिए सात करोड़ में खरीदी गई एमआरआई मशीन को स्वास्थ्य विभाग एक साल बाद भी संचालित नहीं करा पाया है। मेला समाप्त होने के 10 माह बाद हरीद्वार पहुंची मशीन अब ट्रेंड रेडियोलॉजिस्ट न होने की वजह से नहीं चल पा रही है । इसके बाद अब टेली रेडियोलॉजी के जरिए मशीन को चलाने की तैयारी की जा रही है। पिछले साल हरिद्वार में संपन्न हुए महाकुंभ के लिए स्वास्थ्य विभाग ने एक एमआरआई मशीन आनन-फानन में क्रय की थी लेकिन अब मशीन आने के बाद उसे संचालित तक प्राइवेट हाथों से करवाया जा रहा है जिससे पता चलता है कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कितनी गंभीरता के साथ उपकरणों को क्या कर रहे हैं दरअसल हरिद्वार कुंभ मेले में लगी विवादित एम आर आई मशीन अब एक बार फिर चर्चाओं का केंद्र बनती जा रही है जिसे लेकर स्वास्थ्य महानिदेशक अब अलग ही तर्क दे रही हैं उन्होंने कहा कि मशीन को संचालित करने के लिए ट्रेंड स्टाफ की जरूरत होती है ।। जिसको एनएचएम द्वारा अधिकृत की गई कंपनी के माध्यम से अब संचालित कराया जाएगा।।

यह भी पढ़ें -  सीएम कार्यालय से भेज गए पत्र को भी गंभीरता से नहीं ले रहा स्वास्थ्य महानिदेशालय…कहीं गायब तो नही कर दिया गया पत्र ?